Tiddi Dal Attack in Jaipur in Residential Areas

जयपुर में टिड्डी दल का हमला अब खेतों में नहीं सुबह रिहायशी इलाकों में मचाया आतंक, सुबह-सुबह टिड्डियों  ने लाखों की संख्या में आसमान में उड़ कर रिहायशी इलाकों में हमला कर दिया इससे पहले कि टिड्डियाँ  दल खेतों में बहुत बड़ा हमला कर चुकी हैं जिससे किसानों को भारी नुकसान भी हुआ है रिहायशी इलाकों में दिखाई गई टिड्डिया पुरे आसमान में लाखों की मात्रा में उड़ रही थी इन्हें खेत या हरी पत्तियां दिखाई नहीं दी तो अब टिड्डियाँ दाल पेड़ों  में जाकर बैठ गई ।




आपको बता दें कि जयपुर में पिछले 3 दिनों से चिड़िया रुक रुक कर हमला कर रही हैं इससे आसपास के ग्रामीण इलाकों में बहुत ही ज्यादा नुकसान और आतंक माचा हुआ  है आपको बता दें कि टिड्डियाँ हरी सब्जियां के पत्ते खाना पसंद करती हैं और वह चंद भर में आपकी पूरी फसल नष्ट कर सकती हैं और उन्हें खाकर चट भी कर जाती हैं।

Tiddi Dal Attack in Jaipur Updates


सुबह जयपुर में टिड्डियों  ने एक विशाल पेड़ को बनाया लिया अपना डेरा लोगों का कहना है कि आज सुबह आसमान टिड्डियों  से भर गया था लाखों की तादाद में  Locust swarms यानि की tiddi dal  एक साथ उड़ी और पूरे आकाश को घेर लिया टिड्डियों को जमीन पर कोई फसल नहीं दिखी या उन्हें पत्ते नहीं दिखे तो उन्होंने अपना डेरा पेड़ों पर ही बना लिया है आपको बता दें कि कृषि विभाग के अधिकारी दल बल के साथ जहां भी सूचना मिल रही है वहीं मौके पर पहुंच रहे हैं और कीटनाशक छिड़काव लगातार कर रहे हैं टिड्डियों को मारने का प्रयास जयपुर में अभी जारी है मगर टिड्डियाँ रह-रह कर जयपुर में हमला कर रही हैं आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों से राजस्थान टिड्डियों का पसंदीदा क्षेत्र बना हुआ है और वहां हर गांव में घुसकर हमला बोल रही हैं । और अब आगरा में भी अलर्ट  बहुत जल्दी  टिड्डियों का दल उप से आगरा में प्रवेश कर सकता हैं Locusts Attack Alert In Agra

कृषि विभाग के आधार पर टिड्डियाँ  अभी तक 37  हजार हेक्टेयर से ज्यादा क्षेत्रफल को नुकसान पहुंचा चुकी है।जाइका की  हमें पता है यह पाकिस्तान, अफगानिस्तान से आ रहे हैं और भारत अफगानिस्तान पाकिस्तान के बॉर्डर से सटा हुआ है इन्हें जहां पर भी हवा का झोंका मिलता है वह उसी की तरफ मुड़ जाती हैं और हर प्रदेश में घुसकर अपना हमला बोल देती हैं tiddi dal attack in india आपको बता दें कि ऊंचाई पर बैठकर इनका मूवमेंट जारी रहता है कीटनाशक छिड़काव के बाद या मारी तो जाती हैं परंतु इससे पहले यह लाखों की संख्या में ब्रीडिंग कर चुकी होती हैं और छोटे-छोटे झुंड बनाकर हर प्रवेश में आतंक मचाने के लिए प्रवेश कर देती है 

Post a Comment

0 Comments